AI से मंडराया रोजगार पर संकट, बढ़ते टेक्नोलॉजी से 40 फ़ीसद नौकरियां खतरे में

बदलते समय के साथ दुनिया भर में AI (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) का इस्तेमाल भी बहुत तेजी से बढ़ रहा है और लोग इसकी तरफ आकर्षित हो रहे हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बढ़ते दायरे के कारण रोजगार के ऊपर संकट मंडरा रहा है, दरअसल अभी हाल ही में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष IMF ने नौकरियों के ऊपर संकट का अनुमान लगाते हुए एक रिपोर्ट जारी की है जिसमें IMF ने जानकारी देते हुए बताया कि हम एक तकनीकी क्रांति पर है, जो उत्पादकता बढ़ा सकती है, वैश्विक विकास के साथ दुनिया भर की आय को बढ़ा सकती है पर इसका दुष्ट प्रभाव नौकरियों पर देखने को मिलेगा क्योंकि यह रोजगार का स्थान ले सकता है। 

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी की है, जिसके अनुसार AI के विस्तार का असर नौकरियों पर देखा जा रहा है। IMF की इस जारी रिपोर्ट पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने चिंता व्यक्त करते हुए अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर पोस्ट करते हुए लिखा कि “आधुनिक तकनीकी का इस्तेमाल करने के साथ-साथ नए रोजगार सृजन पर भी तेजी से काम करना होगा”। 

रोजगार संकट को लेकर IMF ने जारी की रिपोर्ट 

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष IMF ने AI (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) के तेजी से बढ़ते इस्तेमाल का संकट नौकरियों पर पढ़ने का बताया है। IMF ने रिपोर्ट जारी करते हुए बताया है कि AI के उपयोग की वजह से दुनिया भर के लगभग 40% नौकरियां प्रभावित हो सकती है। इसके साथ ही IMF ने बताया कि वह बढ़ते बाजार और विकासशील अर्थव्यवस्था की तुलना में उन्नत अर्थव्यवस्था को लाभों का अवसर तो मिलेगा ही लेकिन साथ ही जोखिम का सामना भी करना पड़ेगा। 

रोजगार संकट को लेकर कमलनाथ ने चिंता व्यक्त की 

AI (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) के विस्तार की वजह से रोजगार पर बड़ा संकट बन रहा है। रोजगार के ऊपर इस बढ़ते संकट को देखते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने चिंता व्यक्त की और अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर पोस्ट करते हुए लिखा “अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) के बढ़ते इस्तेमाल के कारण 40 फ़ीसद नौकरियों के कम होने की चेतावनी दी है।

मैंने युवाओं के लिये रोज़गार को हमेशा सबसे बड़ी चुनौती माना है। हमें समय बचाने और क्षमता बढ़ाने के लिए AI जैसी आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करने के साथ-साथ नये रोज़गार सृजन पर भी तेज़ी से काम करना होगा। रोज़गार की नई संभावनाओं और नये अवसरों का निर्माण ही बेरोज़गारी से लड़ने का सबसे सार्थक मार्ग है”। 

इसे भी पढ़ें –  मोहन यादव ने की आहार अनुदान योजना के तहत महिलाओं को 29.4 करोड़ की राशि ट्रांसफर 

Author

Leave a Comment