लाडली बहना योजना: महिलाओं के खाते में नहीं आई 9वीं किस्त (DBT बंद होना सबसे बड़ा कारण)

लाडली बहना योजना की लाखों लाभार्थी महिलाओं के लिए बड़ी खबर निकलकर सामने आई है। लाडली बहना योजना के तहत जिन महिलाओं को अब तक 8 किस्तों का लाभ राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराया गया था अब उनको लाडली बहना योजना की 9वी किस्त की राशि का लाभ उपलब्ध नहीं कराया गया।

जैसा कि आप जानते हैं लाडली बहना योजना राशि राज्य सरकार द्वारा योजना की पात्र लाभार्थी महिलाओं को उनके डीबीटी बैंक अकाउंट में उपलब्ध कराई जाती है। लाडली बहना योजना की पात्रता अनुसार सिर्फ उन्हीं महिलाओं को ही योजना का लाभ मिलेगा जिनके अकाउंट में डीबीटी इनेबल होगा। 

महिला एवं बाल विकास विभाग की तरफ से मिली जानकारी के अनुसार लाडली बहना योजना की 9वीं किस्त की राशि पात्र लाभार्थी महिलाओं को ट्रांसफर करने के दौरान यह पाया गया कि प्रदेश की अनेकों महिलाओं के बैंक अकाउंट की डीबीटी बंद पड़ी है, जिस वजह से उन महिलाओं की लाडली बहना योजना की 9वीं किस्त का लाभ प्राप्त नहीं हो सका। 

हजारों महिलाओं की डीबीटी बंद  

लाडली बहना योजना की 9वीं किस्त की राशि महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा पात्र लाभार्थी महिलाओं को ट्रांसफर करने के दौरान पात्र लाभार्थी महिलाओं की सूची की जांच की गयी जिसमें यह पाया गया कि प्रदेश की कई महिलाएं ऐसी है जिनके बैंक अकाउंट की डीबीटी बंद है। लाडली बहना योजना की 9वीं किस्त की राशि ट्रांसफर करने की स्थिति में हजारों महिलाओं की DBT बंद होने की वजह से उनको योजना की राशि का लाभ प्राप्त न हो सका। 

लाभार्थियों की संख्या फिर घटी 

लाडली बहना योजना के तहत पात्र लाभार्थी महिलाओं की सूची दिन प्रतिदिन छोटी होती जा रही है। पिछले माह लाडली बहना योजना के अंतर्गत तकरीबन 3 लाख महिलाओं को राज्य सरकार द्वारा योजना से बाहर किया गया था। वहीं इस माह फरवरी में भी यह सिलसिला जारी रहा। इस बार भी लाडली बहना योजना की पात्र लाभार्थी महिलाओं की सूची में से कई नाम काटे गए। बता दें की महिलाओं के नाम कटने के अन्य कारणों के साथ उनके बैंक अकाउंट की डीबीटी बंद होना पाया गया। 

DBT चालू होना अनिवार्य  

जैसा कि हमने आपको बताया लाडली बहना योजना के आरंभ होने के पहले दिन से ही महिला एवं बाल विकास विभाग की तरफ से जारी पात्रता सूची के अनुसार सिर्फ वही महिलाएं ही योजना के लाभ की पात्र होंगी जिनके अकाउंट की डीबीटी इनेबल होगी। यही कारण है की 9वीं किस्त के दौरान कई महिलाओं को सहायता राशि प्राप्त नहीं हुई। इसलिए महिलाओं को यह सलाह दी जाती है कि योजना का लाभ निरंतर उठाने के लिए वह अपने बैंक अकाउंट की डीबीटी सक्रिय रखें और अपने अकाउंट को मिनिमम बैलेंस से मेंटेन करके रखें। 

इसे भी पढ़ें –  महतारी वंदन योजना: 3 दिनों में ही आवेदन फार्म की संख्या पहुंची 16 लाख 81 हज़ार के पार

Author

Leave a Comment