बड़ी खुशखबरी आयुष्मान कार्ड का लाभ आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता और संविदा कर्मियों को भी मिलेगा

आयुष्मान भारत योजना की श्रेणियों में अब कुछ बदलाव किये गये हैं, आयुष्मान भारत योजना अब आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, आंगनवाड़ी सहायिका, पंचायत सचिव, ग्राम रोजगार सहायक, आशा तथा ऊषा कार्यकर्ता, आशा सुपरवाइजर, कोटवार और संविदा कर्मियों को आयुष्मान भारत योजना में शामिल किया गया है। आयुष्मान भारत निरामयम योजना में यह बदलाव स्वास्थ्य विभाग द्वारा किये गये हैं।  

स्वास्थ्य विभाग द्वारा किये गये हैं इस बदलाव के तहत आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं सहित अन्य कर्मचारियों को आयुष्मान भारत योजना में स्वीकृति देकर ₹5 लाख तक मुफ़्त स्वास्थ्य सुविधा प्रदान की जाएगी इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने इस योजना के लाभ से कुछ परिवारो को अपात्र भी घोषित किया है। विभाग द्वारा जारी इस दिशा निर्देश के अनुसार ऐसा परिवार जो लगातार तीन वर्ष में से कोई भी वर्ष के आयकर दाता हो साथ ही ऐसा परिवार जो किसी सरकारी योजना के माध्यम से मुफ्त इलाज की सुविधा प्राप्त कर चुका है, वह योजना के लिए अपात्र है। 

आयुष्मान भारत में इन कर्मचारियों को मिली स्वकृति 

स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही में आयुष्मान भारत योजना से संबंधित एक अपडेट सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स के माध्यम से जारी करते हुए सूचना दी है की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, आंगनवाड़ी सहायिका, पंचायत सचिव, ग्राम रोजगार सहायक, आशा तथा ऊषा कार्यकर्ता, आशा सुपरवाइजर, कोटवार और संविदा कर्मियों को आयुष्मान भारत योजना में सम्मिलित करके 5 लाख रुपये तक स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। 

इन परिवारों को किया गया अपात्र घोषित 

 स्वास्थ्य विभाग में आयुष्मान भारत योजना में कई कर्मचारियों को लाभ पहुंचाने के निर्देश जारी किए हैं तो वहीं स्वास्थ्य विभाग ने काई परिवार को योजना के लिये अपात्र भी घोषित किया है जिसमें वह परिवार आते हैं, जिनका कोई सदस्य गत 3 वर्ष में से किसी भी वर्ष में आयकर दाता हो साथ ही ऐसे परिवार भी योजना से बाहर होंगे जिनका कोई भी सदस्य किसी भी सरकारी योजना के तहत मुफ्त स्वास्थ्य लाभ ले चूका हो। 

5 लाख तक का मुफ्त इलाज की स्वीकृति 

 मध्य प्रदेश स्वास्थ्य विभाग में आयुष्मान भारत योजना पूर्व में स्वीकृत पात्र श्रेणियों में से संशोधन कर नई श्रेणियों को शामिल किया गया है जिसका मतलब अब उन कार्यकर्ताओं को भी योजना के लाभ से परिचित करवाया जाएगा जिन्हें पहले योजना से वंचित रखा गया था। अब उनको भी ₹5 लाख तक निशुल्क इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। 

इसे भी पढ़ें –  मध्यप्रदेश नए सीएम पर आया कर्ज का भार, कहीं लाडली बहना योजना ना हो जाए इसकी शिकार  

Author

Leave a Comment