लाड़ली बहनों संग भावुक हुए भैया, बहनों ने कहा हमने आपको वोट दिया था

जैसा कि आपको पता है भारतीय जनता पार्टी ने मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री की घोषणा कर दि है जो मोहन यादव हैं। 18 साल से मुख्यमंत्री पद की कमान संभाल रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अब अपने सीएम के पद से इस्तिफा देना पड़ा। खुद शिवराज सिंह चौहान का कहना है कि सीएम के पद के लिए मोहन यादव के नाम का प्रस्ताव  उन्होंने ही विधायक दल की मीटिंग में सबके समक्ष रखा था। 

मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री के पद के लिए कई दिग्गज चेहरे निकल कर सामने आ रहे थे लेकिन प्रदेश वासियों को यही विश्वास था कि मुख्यमंत्री के पद पर तो शिवराज सिंह चौहान को ही बैठाया जायेगा, खुद शिवराज सिंह चौहान को भी कहीं न कहीं यही लगता था कि सीएम की गद्दी तो उन्हें ही मिलेगी हलांकि आधिकारिक तौर पर वह कहते आ रहे हैं कि सीएम पद के उम्मीदवार नहीं हैं पर सीएम के पद को बहुत चाहते थे। 

 सीएम पद से इस्तिफा देने पर कई लोगों के मन में ये सवाल उठ रहे थे कि क्या पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मोदी सरकार से अपने लिए किसी बड़े पद की मांग करेंगे जिस पर जवाब देते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि “अपने लिए कुछ मांगने से बेहतर मैं मरना पसंद करूंगा।” 

“अपने लिए कुछ माँगने से बेहतर मैं मरना पसंद करूँगा” 

मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के चयन से पहले बाकी दो राज्यों के सहित राजस्थान और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री अलकमान से मुलाकात करने के लिए दिल्ली रवाना हुए थे लेकिन इसमें शिवराज सिंह चौहान का नाम नहीं था और जब इसी मामले में शिवराज सिंह चौहान से यह सवाल पूछा गया कि क्या वह दिल्ली नहीं जाएंगे अपने लिए किसी बड़े पद को मांगने तब इस सवाल का जवाब शिवराज ने बड़ी ही विनम्रता से देते हुए कहाँ की “अपने लिए कुछ माँगने से बेहतर मैं मरना समझूँगा इसलिए मैंने कहा था मैं दिल्ली नहीं जाऊँगा”। 

शिवराज का बयान “मैं एमपी में ही रहूंगा” 

शिवराज सिंह चौहान ने अपने सीएम पद से इस्तिफा देते हुए कहा कि भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व वाली सरकार मुझे जो भी काम देगी, मैं उसे समर्पित भाव से अपनी क्षमता के अनुसार करता रहूंगा लेकिन “मैं मध्य प्रदेश से कहीं नहीं जाऊंगा मैं मध्य प्रदेश में ही रहूंगा”। 

लाडली बहनों संग भावुक हुए भैया 

मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के नाम की खबर पूरे प्रदेश में बहुत तेजी से फेल गई है जिसके बाद घोषणा के दूसरे दिन प्रदेश की कई लाडली बेहने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिलने गई। भैया से मिलते ही बहनें बहुत फूट-फूट कर रोने लगीं, वहीं अपनी लाडली बहनों को रोता देख शिवराज अपनी भावनाओं पर काबू न कर सकें और बहनों संग वह भी भावुक हो गए। 

प्रचंड जीत का मुख्य फैक्टर थे शिवराज 

मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की जगह मनोहर यादव को सीएम का पद सौंपा गया लेकिन बावजूद इसके इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता की  विधानसभा चुनाव में हासिल हुई है प्रचंड जीत में शिवराज सिंह चौहान मुख्य फैक्टर रहे है।

इसे भी पढ़ें –  अब 1.41 लाख किसानों को मिल रही है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना राशि

क्योंकि शिवराज द्वारा चलायी गयी आनेको योजनाओं ने खास कर लाडली बहना योजना ने चुनाव को एक पक्षीय कर दिया था प्रदेश की लाखों बहनों ने मतदान शिवराज सिंह चौहान के नाम और उनके चेहरे को देखते हुए किया था। 

Author

Leave a Comment