Domain kya hai ..😲😲 यह गलती कभी मत करना ❌

Domain kya hai? Domain का मतलब क्या होता है?

Domain Name या DNS (Domain Naming System) एक ऐसा नामकरण है जिससे हम किसी website को Internet में identify कर सकते हैं ..Domain यह एक प्रकार का address होता है जिसका use हम किसी particular वेबसाइट को देखने के लिए करते हैं।जैसे आप ब्राउजर URL Bar मैं कोई डोमेन लिख कर search करते हैं तो वह उस वेबसाइट तक पहुँचा देता है।आपको तो पता ही होगा कि software जो होते हैं वो एक अलग ही प्रोग्रामिंग language को समझते हैं

but

आप imagine करिए अगर सभी वेबसाइट का नाम इसी तरह प्रोग्रामिंग language या किसी IP address में होता तो सभी के लिए कितना मुश्किल हो जाता, किसी दूसरी वेबसाइट को find करना।

that’s why

इसी problem से बचने के लिए domain को एक general नाम दिया गया जिसकी मदद से कोई भी यूजर आसानी से किसी भी वेबसाइट को find कर सके क्योंकि यूजर को आसान चीजे ज्यादा आसानी से याद होती है

आप तो जानते हैं गूगल देवता है सब समझता है इसलिए ये domain names एक यूजर के नजरिए से बहुत helpful है।

इसे आप एक प्रकार से अपनी वेबसाइट का नामकरण कह सकते हैं। मतलब आपको अपनी वेबसाइट को एक नाम देना है। जिस तरह मेरी वेबसाइट का नाम  bloggingyukti.com  है उसी तरह आपको भी अपनी वेबसाइट का एक नाम रजिस्टर कराना होगा।

 

Domain के प्रकार –

आपने अक्सर ही यह देखा होगा कि एक वेबसाइट के आखिरी में हमेशा .com, .in , .net, .guru होता है तो आइये जानते हैं आखिर ये होते क्या हैं वैसे तो domain के बहुत से प्रकार हैं

but

आइए कुछ most important डोमेन के प्रकार के बारे जान लेते हैं जिससे आप डोमेन purchase करते time कोई भी गलती न करें –

domain kya hai

TLD (Top Level Domain)

नाम से ही पता चल रहा है कि यह सबसे ज्यादा चलने और टॉप के डोमेन हैं यह डोमेन हैं, जिसकी मदद से आप गूगल पर अपनी वेबसाइट को रैंक करा सकेंगे और जिन पर गूगल सर्च इंजन भी बहुत trust करता है।

और सबसे important बात कि इन डोमेन पर हमें adsense approval भी आसानी से मिल जाता है।

  •   .com (commercial)
  •   .org (organization)
  •   .net (network)
  •   .gov (government)
  •   .edu (education)
  •   .name (name)
  •   .biz (business)
  •   .info (information)

 

CCTLD (Country-code-top-level-domain)

यह डोमेन particular किसी country को represent करते हैं। यह डोमेन किसी country के आधार पर ही रखा जाता है। 

  • .in (India)
  • .us (United State)
  • .br (Brazil)
  • .cn (China)
  • .ru (Rusia)

 

nTLDs (New Top level Domains)

ये डोमेन काफी अलग हैं Because इनको आप देख कर ही बता सकते हैं कि वेबसाइट किस बारे में या किस category का है। 

  • .course
  • .academy
  • .career
  • .dance
  • .yoga
  • .cafe

 

Subdomain क्या होता है?

Subdomain यह domain का ही एक अंश होता है Subdomain आपको अलग से खरीदना नहीं होता यह डोमेन की मदद से ही create होता है, जिस तरह मेरा domain – bloggingyukti.com तो अगर मुझे इसका Subdomain बनाना है तो  blogging.bloggingyukti.com  इस तरह से या आप अपने niche से related सामने और कोई भी word का use कर सकते हैं।

सभी Hosting providers आपको unlimited subdomains बनाने की offer देते है, इसका मतलब हुआ की आप multi-sites बना सकते हैं।  

 

Domain name की आवश्यकता क्यों होती है?

Domain name की आवश्यकता  इसलिए होती है क्योंकि यह आपके website को अलग तरह कि पहचान देता है और यूजर को भी बहुत easy हो जाता है किसी भी वेबसाईट को find करना साथ ही यह domain name आपके website को एक प्रोफेसनल टच देता है । 

 

Domain कैसे काम करता है?

जब भी आप किसी वेबसाइट के domain को google में search करते हैं तो वह सबसे पहले वह DNS (domain name server) के पास जाता है।

DNS यह बताता है कि उसका IP address kya है और वह कहाँ और कौन से server पर स्टोर है।

IP में बदल जाने से यह पता चलता है कि वह किस सर्वर पर मौजूद है इसके बाद उस server को Request भेजा जाता है उस Request को प्रोसेस करने के बाद वह particular वेबसाइट उस पर browser open होती है।

 

domain kaise kam karta hai

 

Domain और URL में अन्तर –

आइये अब जानते हैं एक Domain और URL (Uniform Resource Locator) में क्या अन्तर होता है –

URL – https://www.bloggingyukti.com  (इसे हम क्लिक कर सकते हैं)

Domain bloggingyukti.com  (इसे हम क्लिक नहीं कर सकते हैं)

 

Domain कहाँ से खरीदे?

अब यह तो आपको पता चल ही गया होगा कि एक वेबसाइट बनाने के लिए आपको डोमेन कि need होती है तो सबसे पहले आप अपना डोमेन रजिस्टर जरूर करें इसके लिए बहुत से Domain name registrar हैं जिनकी मदद से आप अपना डोमेन बुक कर सकते हैं।

  • Godaddy
  • Bluehost
  • Big rock
  • Hostgator
  • Namesilo
  • Google Domains

Or जो भी hosting कंपनी है वो आपको डोमेन जरूर provide करती है , तो आप वहाँ से भी ले सकते हैं।

 

Domain name कैसे रखें ? 

यह point सबसे important point होने वाला है क्योकि mostly यूजर यही गलती करते हैं कि वे अपना Domain name  बिना सोचे समझे ले लेते हैं । डोमेन आपके वेबसाइट या ब्लॉग को एक अलग पहचान प्रदान करती है. आपके ब्लॉग को ज्यादा प्रोफेशनल बनाती है । 

1)  आपको हमेशा अपने domain का नाम अपने niche से related ही रखना चाहिए जैसे कि अगर आप health के बारे में लिख रहे हैं तो आपका domian का नाम healthgyan.com या फिर जिस तरह में blogging के बारे में बताता हूँ तो मेरा domain का नाम bloggingyukti.com रखा है क्योकि इससे आपके यूजर को आसानी होती है ।

2) ज्यादा से ज्यादा 2 या 3 word का domain रखने कि कोशिश करें , doamin ज्यादा बड़ा न रखें

3) आप हमेशा TLD name वाले domain ही रखने कि कोशिश करें क्योकि इन doamin को google जल्दी रैंक कराता है।

4) अपने Doamin का नाम हमेशा आसान शब्दों में लिखें ताकि यूजर आसानी से लिख और बोल सकें ।

5) आप किसी पॉपुलर doamin से मिलता जुलता नाम लेने की कोशिश न करें अपना एक अलग brand बनायें ।

6) अपने domain name में Special character या numbers हो सके तो न रखें ।

 

ज्ञान कि बात with Bloggingyukti 😉😉

okk I hope इस article को पढ़ने के बाद finally आपके doubtes clear हुए होंगे यहाँ मे आपको एक बात बोलना चाहूँगा कि कभी भी अपना डोमेन लेने मे जल्दबाजी न करे , अगर आपका content english मे है तो .com और hindi मे है तो आप .in के साथ भी continue कर सकते हैं ।

sooo ..हस्ते रहिए मुस्कुराते रहिए और पढ़ते रहिए blogging कि yuktiyan 😅और अगर आपको और कोई भी doubts है तो मुझे comment करे मे आपकी हेल्प करूंगा। 

Spread the love

Leave a Comment